Two SOG commandos martyred fighting Maoists in Odisha’s Kalahandi district | Bhubaneswar News


BHUBANESWAR: An anti-Maoist operation that led to the elimination of five suspected Naxals in Kalahandi district on Wednesday also saw casualties of two police personnel, the state police headquarters confirmed on Thursday.
The martyrs were identified as Sudhir Kumar Tudu (28) and Debashish Sethy (27), both commandos of the special operation group (SOG), a specialized anti-Naxal force of the state police.
Chief minister Naveen Patnaik expressed his condolences. “Salute to the martyrdom of Debashish Sethy of Angul & Sudhir Kumar Tudu of Mayurbhanj who laid down their lives fighting against left wing extremists. My heartfelt condolences to the families of the martyred jawans. #Odisha will remember the sacrifice of its brave sons,” Naveen Patnaik tweeted.

Director general of police (DGP) Abhay among other senior police officers rushed to Kalahandi on Thursday and paid homage to the martyred SOG jawans. “We are proud of our brave hearts. They attained martyrdom while fighting bravely with the Maoists. They exhibited exemplary courage. This is the reason why we hold our head high today. We salute them,” Abhay said. Abhay along with intelligence director R K Sharma and IG (operations) Amitabh Thakur later took stock of the anti-Maoist strategies in Kalahandi.
Death of the two cops is this year’s first casualty from the side of the state police while combating left-wing extremism (LWE).
Till filing of the report, the identities of the five suspected Maoists, who were killed in the exchange of fire on Wednesday, were not ascertained. The deceased included four women. “We have managed to find out names of two of the deceased. But we are further verifying their details. They are suspected to be members of Bansadhara- Ghumusar-Nagavali (BGN) division,” another police officer said.
Left-wing extremism (LWE) related violence has significantly declined in the state in the last few years. At least 13 Maoists have so far been killed in different districts this year. Casualties of suspected Maoists stood at 19 in 2018 and 8 in 2019. Wednesday’s exchange of fire was the third major anti-Maoist operation in the state in the last two months. Five suspected Maoists, including two women were gunned down in Kandhamal district on July 5. The security personnel again killed two suspected left-wing extremists in a forest of Tumudibandha area in Kandhamal district on July 23.





Source link

साउथ इंडियन एक्टर प्रभास ने पर्यावरण विस्तार के लिए गोद लिया रिजर्व फॉरेस्ट



साउथ इंडियन एक्टर प्रभास ने पर्यावरण विस्तार के लिए हैदराबाद के पास करीब 1650 एकड़ में विस्तृत आरक्षित वन क्षेत्र को पूर्ण रूप से विकसित करने का निर्णय लिया है। जिसकी जानकारी खुद अभिनेता ने सोशल मीडिया के माध्यम से दी है।

प्रभास ने इस बात की जानकारी इंस्टाग्राम के माध्यम से देते हुए बताया कि 1650 एकड़ में विस्तृत आरक्षित वन क्षेत्र को विकसित करने जा रहे हैं। यह वन क्षेत्र संगारेड्डी जिला के खाजीपल्ली ग्राम परिधि में स्थित है ।जो कि दुंदिगल के काफी पास है। इस काम के लिए एक्टर ने खुद प्रभावित क्षेत्र का दौरा किया । उन्होंने बताया कि ग्रीन चैलेंज से प्रभावित होकर उन्होंने यह कदम उठाया है।

आपको बता दें कि इस समय कई बॉलीवुड सेलेब्स समाज सेवा के काम में लगे हुए हैं। सलमान खान ने भी एक गांव गोद लिया है। इसी प्रकार जैकलिन फर्नांडिस ने भी 2 गांव गोद ले रखे हैं। इसी के साथ कई स्टार जैसे सोनू सूद भी जरूरतमंदों की मदद करने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं। ऐसे में बाहुबली एक्टर प्रभास ने पर्यावरण के विस्तार के लिए एक सराहनीय कदम उठाया है।



Source link

Kolkata police commissioner Anuj Sharma tests positive for Covid-19 | Kolkata News


KOLKATA: City police commissioner Anuj Sharma tested positive for Covid-19 on Thursday and he went for home isolation, an official said. The 52-year-old IPS officer has been feeling unwell for the past few days.
He took the test yesterday and it confirmed the infection today. He is in home isolation at the moment,” the senior official of the city police force said.
Sharma had attended the “Police Day” programme held at the state secretariat on Tuesday, in which Chief Minister Mamata Banerjee and other senior officials were present. SCH NN NN



Source link

Schools all set to reopen after 6 months know what changes the schools will have | மீண்டும் பள்ளி மணியோசை: கொரோனா காலத்து பள்ளி எப்படி இருக்கும்? இதோ பார்க்கலாம்!!


புதுடெல்லி: கொரோனா (Corona) காலத்தில் சுமார் 6 மாதங்களாக மூடப்பட்டிருந்த நிலையில், பல விதிமுறைகளுடன் செப்டம்பர் 21 முதல் பள்ளிகள் (Schools) திறக்கப்பட உள்ளன. 9 முதல் 12 ஆம் வகுப்பு வரையிலான மாணவர்களுக்கு எச்சரிக்கை நடவடிக்கைகளுடன் பள்ளிகளை திறக்க மத்திய அரசு அனுமதி வழங்கியுள்ளது. இதன்படி, 9 முதல் 12 ஆம் அவகுப்பு வரை உள்ள மாணவர்கள் ஆசிரியரிடம் ஆலோசனை பெற பள்ளிக்கு செல்ல முடியும். இதற்காக, பெற்றோரின் எழுத்துப்பூர்வ அனுமதி தேவைப்படும். எந்தப் பள்ளியும் குழந்தைகள் பள்ளிக்கு வர வெண்டும் என அவர்களை கட்டாயப்படுத்த முடியாது.

கொரோனா நாம் வாழும் முறையை பல விதத்தில் மாற்றியமைத்துள்ளது. அதேபோல் பள்ளிகளும் அவற்றின் உள்கட்டமைப்பை மாற்றியுள்ளன. கொரோனாவுக்கு எதிராக போராடவும், முன்னெச்சரிக்கையுடன் இருக்கவும் பள்ளிகள் முழுமையாக தயாராக உள்ளன.

கொரோனா காலத்தில் பள்ளிகள் எப்படி இருக்கும்

– பள்ளிகள் இதற்கான பல ஏற்பாடுகளைச் செய்துள்ளன. குழந்தைகள் நுழைவு வாயிலிலிருந்து உள்ளே வரும் முன், ஸ்க்ரீனிங் (Screening) செய்யப்படுவார்கள். அதன் பிறகு அவர்களின் காலணிகள் சுத்தப்படுத்தப்படும்.

– குழந்தைகள் உள்ளே வரவும் வெளியேறவும் வெவ்வேறு வழிகள் உருவாக்கப்படும். இந்த வழிகளில் தனி மனித இடைவெளிக்கான (Social Distancing)  குறிகள் போடப்பட்டிருக்கும்.

– மாணவர்களை தொற்றுநோயிலிருந்து காப்பாற்ற, பள்ளிகள் முற்றிலும் ‘touch-free’-யாக இருக்கும். டச்-ஃப்ரீ வாஷ் பேசின்கள் பள்ளிகளில் நிறுவப்பட்டுள்ளன. அத்துடன் தொடத் தேவை இல்லாத சேனிடைசர்களும் வைக்கப்படும்.

– இது மட்டுமல்லாமல், இப்போது மாணவர்களின் வருகைப் பதிவும், அதாவது அடெண்டன்சும், ‘touch-free’-யாக இருக்கும். இதற்காக, ஒரு சிறப்பு இயந்திரம் நிறுவப்பட்டுள்ளது. அதில் ஒரு நேரத்தில் வருகை, வெப்ப திரையிடல் மற்றும் முகக்கவச சோதனை அனைத்தும் செய்யப்படும். மாணவர் முகக்கவசம் அணியவில்லை என்றால், இந்த இயந்திரம் அதையும் சொல்லும்.

பள்ளிகளில் என்னென்ன மாற்றங்கள் இருக்கும்

– வகுப்பில் உட்கார பெஞ்சுகள் வெகு தொலைவில் வைக்கப்பட்டிருக்கும்.  ஒரே நேரத்தில் ஒரு பெஞ்சில் ஒரு மாணவர் மட்டுமே அவர முடியும். மாணவர்களின் இருக்கைகள் நிர்ணயிக்கப்படும்.

– வகுப்பு அறைகளுடன் ஆசிரியர்களும் மாறிய வடிவில் காணப்படுவார்கள். அனைத்து ஆசிரியர்களும் கண்டிப்பாக ஃபேஸ் ஷீல்டுகளை அணிய வெண்டும்.

– மாணவர்களை பள்ளிக்கு அனுப்ப விரும்பாத பெற்றோர்கள், வீட்டிலிருந்து மாணவர்களை நேரடி வகுப்புகளைக் காண வைக்கலாம். வகுப்பறைகள் அவ்வப்போது சுத்திகரிக்கப்படும்.

ALSO READ: தேர்வுகளை நடத்த திருத்தப்பட்ட SOP-ஐ வெளியிட்டது சுகாதார அமைச்சகம்: விவரம் உள்ளே!!

பள்ளிகளுக்கான வழிகாட்டுதல்கள் என்ன

– கொரோனாவின் ஆபத்து நீங்காத வரையிலும், அரசாங்கத்திடமிருந்து எந்த அறிவுறுத்தலும் வராத வரையிலும், ஒன்றாம் வகுப்பு முதல் எட்டாம் வகுப்பு வரை உள்ள மாணவர்கள் ஆன்லைனில் படிப்பார்கள்.

– செப்டம்பர் 21 முதல், கட்டுப்பாட்டு மண்டலத்திற்கு வெளியே உள்ள பள்ளிகள் மட்டுமே திறக்கப்படும்.

கட்டுப்பாட்டு மண்டலத்திற்கு (Containment Zones) வெளியே வசிக்கும் ஊழியர்கள் மற்றும் மாணவர்கள் மட்டுமே பள்ளிக்கு வர அனுமதிக்கப்படுவார்கள்.

– பள்ளிக்கு வரும் மாணவர்கள் பெற்றோரின் எழுத்துப்பூர்வ அனுமதியைப் பெறுவது கட்டாயமாகும். பள்ளிக்கு வரும் மாணவர்கள் எந்த வகையிலும் கட்டாயப்படுத்தப்பட மாட்டார்கள். அவர்களின் விருப்பத்தின் அடிப்படையிலேயே அவர்களது வருகை இருக்கும்.

– மாணவர்களிடையே குறைந்தது 6 அடி இடைவெளி இருக்க வேண்டும். இது தவிர, முகக்கவசம் / முகமூடி (Face Nask) கட்டாயமாக்கப்பட்டுள்ளது. தற்போது பயோமெட்ரிக் வருகைப் பதிவு இருக்காது.

– பள்ளியின் உள்ளே, மாணவர்கள் அவ்வப்போது கைகளை சுத்தம் செய்துகொள்ள வேண்டும். வளாகத்தில் துப்புவது தடைசெய்யப்பட்டுள்ளது.

– ஒவ்வொரு மாணவர் மற்றும் ஊழியர்களின் வெப்ப பரிசோதனை வாயிலில் செய்யப்படும். அவர்களின் கைகளும் வாயிலிலேயே சுத்தப்படுத்தப்படும்.

– மாணவர்கள் தங்களின் பேனாக்கள், பென்சில்கள், நோட்புக்குகள் அல்லது வேறு எந்த பொருட்களையும் பகிர்ந்து கொள்ளக்கூடாது.

– கூடுதலாக, பள்ளி மைதானத்தில் எந்தவொரு விளையாட்டு அல்லது உடல் பயிற்சி செயல்பாடுகளும் தடைசெய்யப்பட்டுள்ளன.

– பள்ளிக்கு வரும் அனைத்து மக்களும் ஆரோக்ய சேது செயலியை (Arogya Sethu App) தங்கள் ஃபோனில் வைத்திருப்பது கட்டாயமாகும். இதனுடன், அனைத்து பள்ளிகளும் தங்கள் வளாகத்தில் பல்ஸ் ஆக்சிமீட்டரை (Pulse Oximeter) வைத்திருக வேண்டும். 

ALSO READ: பயங்கரமான நிலை…..நாட்டின் அனைத்து பதிவுகளையும் முறியடித்தது கொரோனா வைரஸ்!





Source link

साउथ इंडियन एक्टर प्रभास ने पर्यावरण विस्तार के लिए गोद लिया रिजर्व फॉरेस्ट



साउथ इंडियन एक्टर प्रभास ने पर्यावरण विस्तार के लिए हैदराबाद के पास करीब 1650 एकड़ में विस्तृत आरक्षित वन क्षेत्र को पूर्ण रूप से विकसित करने का निर्णय लिया है। जिसकी जानकारी खुद अभिनेता ने सोशल मीडिया के माध्यम से दी है।

प्रभास ने इस बात की जानकारी इंस्टाग्राम के माध्यम से देते हुए बताया कि 1650 एकड़ में विस्तृत आरक्षित वन क्षेत्र को विकसित करने जा रहे हैं। यह वन क्षेत्र संगारेड्डी जिला के खाजीपल्ली ग्राम परिधि में स्थित है ।जो कि दुंदिगल के काफी पास है। इस काम के लिए एक्टर ने खुद प्रभावित क्षेत्र का दौरा किया । उन्होंने बताया कि ग्रीन चैलेंज से प्रभावित होकर उन्होंने यह कदम उठाया है।

आपको बता दें कि इस समय कई बॉलीवुड सेलेब्स समाज सेवा के काम में लगे हुए हैं। सलमान खान ने भी एक गांव गोद लिया है। इसी प्रकार जैकलिन फर्नांडिस ने भी 2 गांव गोद ले रखे हैं। इसी के साथ कई स्टार जैसे सोनू सूद भी जरूरतमंदों की मदद करने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं। ऐसे में बाहुबली एक्टर प्रभास ने पर्यावरण के विस्तार के लिए एक सराहनीय कदम उठाया है।



Source link

तो क्या कंगना रनौत की चुनौती का जवाब ऑफिस तोड़ कर दिया गया? शिवसेना ने सामना में लिखा- 'उखाड़ दिया'



नई दिल्ली: एक्ट्रेस कंगना रनौत के 48 करोड़ के ऑफिस को बीएमसी ने बुधवार को तहस-नहस कर दिया। बीएमसी ने दावा किया कि कंगना रनौत के ऑफिस के अंदर अवैध निर्माण कार्य किया गया, जिसके बाद ये कार्रवाई की गई। लेकिन शिवसेना का सामना पत्र कुछ और ही इशारा कर रहा है। दरअसल, कंगना रनौत का ऑफिस टूटने के बाद शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के फ्रंट पेज कंगना के ऑफिस की तस्वीर छापते हुए बड़े-बड़े शब्दों में लिखा है- उखाड़ दिया। शिवसेना के इस शीर्षक से साफ है कि उन्होंने कंगना रनौत की चुनौती का जवाब कुछ इस तरह दिया है।

इस खबर में कंगना रनौत के ऑफिस पर चले बुलडोजर की जानकारी दी गई है। इसके साथ ही कंगना द्वारा मुंबई की तुलना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर वाले बयान का भी जिक्र किया गया है। साथ ही ऑफिस तोड़ने के मामले में बॉम्बे हाईकोर्ट की रोक का भी जिक्र इसमें किया गया है।

शिवसेना द्वारा उखाड़ दिया हेडलाइन को कंगना के उस बयान का भी जवाब कहा जा रहा है, जिसमें उन्होंने कहा था ‘उखाड़ो मेरा क्या उखाड़ोगे?’ कंगना रनौत ने ट्वीट कर लिखा था, ‘किसी के बाप का नहीं है महाराष्ट्र, महाराष्ट्र उसी का है जिसने मराठी गौरव को प्रतिष्ठित किया है। और मैं डंके की चोट पे कहती हूं हां मैं मराठा हूं ,उखाड़ो मेरा क्या उखाड़ोगे?’

आपको बता दें कि ऑफिस टूटने के बाद से ही कंगना रनौत ट्वीट कर उद्धव ठाकरे और शिवसेना पर लगातार निशाना साध रही हैं। कंगना ने एक ट्वीट कर कहा कि शिवसेना का सोनिया सेना बना दिया गया है। कंगना रनौत ने ट्वीट कर लिखा, जिस विचारधारा पे श्री बाला साहेब ठाकरे ने शिव सेना का निर्माण किया था आज वो सत्ता के लिए उसी विचारधारा को बेच कर शिव सेना से सोनिया सेना बन चुके हैं, जीन गुंडों ने मेरे पीछे से मेरा घर तोड़ा उनको सिविक बॉडी मत बोलो, संविधान का इतना बड़ा अपमान मत करो। वहीं, इससे पहले कंगना ने मुंबई पहुंचते ही उद्धव ठाकरे को धमकी देते हुए कहा था कि आज मेरा घर टूटा है, कल तेरा घमंड टूटेगा।



Source link

west bengal coronavirus: Bengal reports 41 Covid deaths, 3,112 new cases | Kolkata News


KOLKATA: The Covid-19 death toll in West Bengal rose to 3,771 on Thursday after 41 more patients succumbed to the disease, a bulletin released by the state health department said.
The coronavirus tally also mounted to 1,93,175 after 3,112 people from various parts of the state tested positive for the contagion.
Since Wednesday, 3,035 patients recovered from the infection taking the discharge rate to 85.95 per cent.
The number of active cases stood at 23,377, the bulletin said.
During the last 24 hours, 44,347 samples were tested for Covid-19 in West Bengal.



Source link

आमिर खान के पानी फाउंडेशन की जल शक्ति मंत्रालय ने की सराहना



बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान और उनकी पत्नी किरण राव जल संरक्षण के लिए काम करते हैं। उन्होंने ‘पानी फाउंडेशन’ नाम से एक संस्था बना रखी है। जिसके माध्यम से वे महाराष्ट्र के सूखा प्रभावित क्षेत्रों को को जल मुहैया कराकर विकास के पथ पर अग्रसर कर रहे हैं। उनके इस एनजीओ की जल शक्ति मंत्रालय ने अपने आधिकारिक सोशल मीडिया हैंडल पर सराहना की है।

जल मंत्रालय की सोशल मीडिया अकाउंट पर लिखा है, “आज हम पानी फाउंडेशन का जश्न मना रहे हैं, जो फेमस अभिनेता आमिर खान और उनकी पत्नी किरण राव द्वारा स्थापित किया गया है, यह एनजीओ महाराष्ट्र के क्षेत्रों को सूखे से विकास और उन्नति में बदल रहा है। एनजीओ का सत्यमेव जयते वाटर कप एक सराहनीय पहल रहा है।”

इस पर अभिनेता आमिर खान ने जवाब देते हुए लिखा है थैंक यू, आमिर ने लिखा, “किरण और मैं हमारे प्रयासों को स्वीकार करने के लिए पानी फाउंडेशन के प्रत्येक सदस्य की ओर से जल शक्ति मंत्रालय को धन्यवाद देना चाहेंगे। महाराष्ट्र में सूखे के खिलाफ लोगों के आंदोलन को हाईलाइट करने के लिए धन्यवाद। यह हमारे डोनर और इस प्रयास में योगदान देने वाले प्रत्येक महाराष्ट्रीयन के सहयोग के बिना संभव नहीं था। जो इस यात्रा का एक हिस्सा रहे हैं आपके विनम्र शब्दों ने हमें आशा और शक्ति से भर दिया है। हम अपने प्रयासों में निरंतर बने हुए हैं और महाराष्ट्र में हजारों जल हीरो के साथ काम करते हुए अभिभूत महसूस कर रहे हैं। शुक्रिया।”



Source link

Bhubaneswar: BMC starts collecting bio-medical waste from home isolation patients | Bhubaneswar News


BHUBANESWAR: The Bhubaneswar Municipal Corporation (BMC) has started collecting bio-medical waste from the houses where Covid-19 positive patients are under home isolation.
The civic body has engaged Jagruti Welfare Organisation for this work. Jagruti has deployed dedicated vehicles for transportation of the bio-medical waste to the waste disposal centre at Tangiapada near Khurda.
The bio-medical waste will be collected through double layered non-chlorinated disposable plastic bags from all the houses where Covid patients are under home isolation. One vehicle will cover around 100 houses. The vehicles will be sanitized after each trip according to the guidelines issued by the Central Pollution Control Board (CPCB).
BMC will issue standard operating procedure from time to time for increasing the efficiency of the work. The organization will be engaging four vehicles for this purpose. If home isolation cases increase, BMC will add more number of vehicles. It will pay Rs 5,750 per vehicle to Jagruti for collection of bio-medical waste in the city per a month.
The civic body will provide the list of home isolation patients with their address and contact information to Jagruti on daily basis and appoint one nodal officer for monitoring this. Patients should dispose off all its bio-medical waste in the polythene bags provided by Jagurti instead of mixing it with general household waste.
According to CPCB, biomedical waste at home-isolation shall comprise used syringes, date expired or discarded medicines, used masks/gloves and in case of patients with other chronic diseases may also include drainage bags, urine bags, body fluid or blood-soaked tissues/cotton and empty ampules.



Source link

टूटे हुए ऑफिस को देख रो पड़ी Kangana Ranaut, तस्वीरें हुईं सोशल माीडिया पर वायरल



नई दिल्ली: सुशांत सिंह राजपूत की मौत को लेकर बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत लगातार बॉलीवुड पर निशाना साध रही थीं। लेकिन इस बीच उनकी तनातनी शिवसेना से हो गई। इसका नतीजा ये हुआ कि मुंबई स्थित कंगना के ऑफिस में बीएमसी ने तोड़फोड़ की। बीएमसी का कहना था कि कंगना के ऑफिस के अंदर अवैध निर्माण हुआ है, जिसके तहत ये कार्रवाई की गई। इस बीच गुरुवार को कंगना रनौत अपने ऑफिस की हालत देखने पहुंचीं।

कंगना रनौत ने करीब 10 मिनट तक अपने ऑफिस का जायजा लिया और उसके बाद वह वापस घर लौट आईं। अब इसकी तस्वीरें सामने आई हैं, जो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही हैं। वहीं, अपने सपनों को ऐसे बिखरा हुआ देख कंगना के चेहरे पर उदासी साफ दिख रही थी। वहीं, कई मीडिया चैनल्स ये दावा कर रहे हैं कि कंगना अपने टूटे ऑफिस को देख रो पड़ीं। बताया जा रहा है कि ऑफिस टूटने के कारण कंगना रनौत को लगभग 2 करोड़ का नुकसान हुआ है।



Source link